रविवार, 26 मार्च 2017

ठग्गूराम [किशोर कोना]


हिन्दी के प्रसिद्ध कवि स्वनामधन्य स्व. काका हाथरसी ने अपनी एक सुन्दर और यथार्थ विरोधाभाषी नामावली कविता के रूप में लिखी है, पर मेरे इस लेख के हीरो ठग्गूराम ठीक इसके उलट ‘मनसा वाचा कर्मणा’ अपने नाम को सार्थक करता है

यह सही है कि कोई सीधासाधा या बुद्धू व्यक्ति ठगी नहीं कर सकता है, ठ्ग बहुत   चालाक व तुरतबुद्धि वाला प्राणी ही हो सकता है. दुनिया भर में अनेक बड़े बड़े
कोनमेंन (ठग) लोगों के किस्से लिखे-पढ़े या सुने जाते हैं; हमारे देश में ‘नटवरलाल’ शब्द अब ठगी का पर्याय माना जाने लगा है ठग शब्द अब आक्सफोर्ड डिक्सनरी में भी स्थान  पा चुका है.

ठगों की वाणी व बोलने का लहजा इतना प्यारा और मनमोहक होता है कि वह सामने वाले के अंत:करण को छू कर अपने बस में कर लेते हैं ठगी का अहसास बहुत देर से होता है और उसकी टीस लम्बे समय तक सालती रहती है. ठगों के झंडे केवल व्यापार, साहित्य या राजनीति में ही नहीं गढ़े हैं इनके कारनामे नाटकों और फिल्मों में भी उजागर किये जाते हैं.

हाँ, तो मैं जिस ठग्गूराम के बारे में बता रहा था वह हमारे जिले नैनीताल के एक गाँव ज्योलीकोट का रहनेवाला था गरीब के घर पैदा हुआ था पर बचपन से ही इस कला में प्रवीण हो गया था. स्थानीय लोग उसके बारे में बड़े चटखारे लेकर चर्चे किया करते हैं. एक घटना कुछ बर्षों पुरानी है कि हल्द्वानी नगर निगम से जुड़े काठगोदाम बस्ती में एक मधुशाला (शराब की दूकान) पर एक अनजान सूटेड-बूटेड व्यक्ति ने इस कदर शराब पी कि लड़खड़ाकर वहीं सड़क पर लुढ़क गया, जैसा कि इस प्रकार के दृश्य में अकसर होता है तमाशाईयों ने खूब मजा लिया. शराबी के हाथ में नोटों की गड्डी और बगल में एक ब्रीफकेस सबको दीख रहा था. शराब तो शराब होती है जब कोई व्यक्ति ‘नीट’ पिएगा या अपने हाजमे से ज्यादा पी जाएगा तो बेहोश होकर सड़क या नाली में लुढ़केगा ही.

ठग्गूराम भी सयोगबस शराब की तलब में उधर आ पहुंचा और उसे देखते ही सारा माजरा समझ गया. खड़े लोगों को धकेलते हुए विलापी श्वर में जोर से बोला “चचा ! ये क्या हाल बना रखा है, इस तरह बेशर्मों करके पड़े हो उधर चाची का रो रो कर बुरा हाल हो रहा है, बच्चे परेशान हैं.”

ठगगूराम का नाटक सभी को असली लगा और लोगों ने सहयोग करके एक रिक्सा लाकर उसमें लिटाया जिसे लेकर ठग्गूराम चलता बना. अगले दिन सबको मालूम हुआ कि शराबी का भतीजा बन कर आने वाला कोई  ठग था जो एकांत में ले जाकर उसकी जेब साफ़ करके सामान सहित रफूचक्कर हो गया था. शराबी को बड़ा सबक मिलना ही था पर सांप के निकल जाने के बाद सड़क पीटने से कुछ नहीं होता है.

ठगी कुछ लोगों का स्वभाव हो जाता है, पर ये बहुत बुरी बात है. अगर कोई ठग पकड़ में आ जाता है तो उसको कड़ी सजा मिलती है.

                          ***

शुक्रवार, 24 फ़रवरी 2017

बैठे ठाले - १७

हर शहर की अपनी अपनी खासियत होती है, पर जो बात लखनऊ में है, वह कहीं और नहीं है.

अयोध्या से महज 40 मील दूर ये शहर राम जी के छोटे भाई लखन जी के नाम से है, ऐसा पौराणिक गल्पों पर विश्वास करने वाले लोग मानते हैं. मध्य काल में जब अवध के नवाबों की तूती बोलती थी तो गोमती नदी के तट पर बसे इस शहर को पूरब का कुस्तवनतुनिया या शिराजे-हिन्द भी कहा जाता था. इतिहास में दर्ज है कि इसे सर्वप्रथम नवाब आसिफुद्दौला ने अवध की राजधानी बनाया था.

इस शहर के विकास व सांस्कृतिक विरासत का विहंगम वर्णन करने बैठेंगे तो एक विराट पुस्तक बन जायेगी. यहाँ के शिया नवाबों ने विनम्र शिष्टाचार तथा व्यवहार में नफासत को नए आयाम दिए, खूबसूरत उद्द्यान बनवाये, उच्च कोटि की शायरी व नृत्य-सगीत को पूर्ण संरक्षण दिया. जिसे आज हम गंगा-जमुनी संस्कृति कहते हैं, उसे पोषित किया. जिसके तहत अनेक साहित्यकार, शायर/कवि, व शास्त्रीय संगीत/गायकी के बड़े नाम लखनऊ के साथ जुड़े हुए हैं. भारतीय सिनेमा पर भी लखनवी छाप यादगार है. अगर आप भी कभी लखनऊ सैर को निकले हों तो आपको शामे-अवध की गजरों की खुशबू, टिक्का कबाब का स्वाद, वहाँ की ऐतिहासिक छोटे-बड़े इमामबाड़े, और रूमी दरवाजा, अवश्य भाये होंगे और आधुनिक उभरते हुए लखनऊ की ऊंची इमारतें, अम्बेडकर स्मारक - मायावती के हाथियों की जमात, रेलवे स्टेशन, अमोसी एरोड्रम आदि सब मिलाकर एक सपना सा अवश्य लगा होगा.

यों आज का लखनऊवासी उत्तरप्रदेश के अन्य शहरों के निवासियों से कतई अलग नहीं लगते हैं क्योंकि ये अब मैट्रोपॉलिटन सिटी बन गया है. पर मुझे यहाँ की पुरानी तहजीब पर ये जुमला/लतीफा बहुत पसंद है:

फन्ने खां बड़े किस्मत वाले थे कि उनको ससुराल लखनऊ में मिला. जब वे पहली बार वहाँ गए तो बड़ी आवभगत हुई. सासू माँ (खाला) बोली, “दामादजी, आपकी पसंद चाहती हूँ. खाने में सब्जी क्या बनाऊँ? आपके लिए बैगन-शरीफ पका लूं या भिन्डी-मुबारक या फिर आप पालक-पाक खाना पसंद करेंगे?”
फन्ने खां ने उसी अंदाज में जवाब दिया, “खाला, मैं तो बेरोजगार आदमी हूँ. इन मुक़द्दस सब्जियों के नाम लेने के काबिल भी नहीं हूँ. आप ऐसा कीजिये कोई बेगैरत-आवारा सा मुर्गा ही पका लीजिये.”

यों ‘पहले आप – पहले आप’ की विनम्रता का अंदाज आज भी लखनऊ वालों में मौजूद है, और ऐसा कहते हैं कि इसी हुजूरी में उनकी अकसर ट्रेन छूट जाती है.

***

शुक्रवार, 27 जनवरी 2017

लाखों सपनों का शहर - कोटा

दक्षिण-पूर्वी राजस्थान के हाड़ौती इलाके में बसा हुआ 900 वर्ष पुराना कोटा शहर पिछले 30 वर्षों के अंतराल में पुरानी राजशाही चौहद्दी से बाहर निकल कर एकाएक ‘एजुकेशन हब’ के रूप में विकसित हो गया है, और अनपेक्षित रूप से फ़ैल भी गया है. यहाँ पर बिजली, पानी, रेल व सड़क यातायात की सुविधा सब इफरात से प्राप्य है. आज एक लाख से अधिक संख्या में लड़के लड़कियां अपने भविष्य के बड़े बड़े सपने संजोकर यहाँ के छोटे-बड़े दर्जनों कोचिंग-इंस्टीट्यूट्स में सुबह-शाम अलग अलग पारियों में फिज़िक्स, कैमिस्ट्री, बायोलजी/ मैथ्स की पढ़ाई करके अपने सपने सच करने के लिए दिन रात व्यस्त रहते हैं. कुछ कोचिंग संस्थान ‘प्राईवेट लिमिटेड’ भी हो गयी हैं. बंसल, ऐलन, रेजोनेंस, मोसन, कैरिअर पोंइट्स, व्हाईब्रेंट आदि अनेक बड़े नाम हैं, जिन्होंने अनुभवी तथा ब्रिलियंट एकेडेमिक कैरियर वाले प्राध्यापक नियुक्त किये हुए हैं. पढ़ाई का स्तर निश्चित रूप से सामान्य से ऊपर होगा. परीक्षापयोगी विषय ‘कैप्स्यूल’  बना कर विद्यार्थियों को परोसे जाते हैं. सफलताओं के बड़े बड़े विज्ञापन अखबारों में व होर्डिंग्स में देखने को मिलते हैं. इसलिए देश के अन्य प्रान्तों से भी बच्चे यहाँ आने को लालायित रहते हैं, तथा बड़ी बड़ी कोचिंग फीस सहन करते हैं.

ये बात भी सही है कि इस संस्थानों का ये एक बड़ा व्यापार बन गया है. सालाना फीस एक लाख से अधिक वसूली जाती है. इनकी आलीशान बिल्डिंगें, तामझाम व आवरण देखकर ही समझ में आता है कि खर्चों से कहीं अधिक आमदनी हो रही है.  फीस पर कोई सरकारी या गैरसरकारी नियंत्रण ना होने से अवश्य मनमानी होती रही है. आलम ये भी है की अधिक कमाई के उद्देश्य से कुछ संस्थानों द्वारा अपनी ब्रांचेज (दूकानें) राजस्थान के अन्य शहरों में खोली जाने लगी हैं. इस ‘ट्यूशनराज’ के बारे में गत वर्षों में बहुत आलोचनाएँ और गंभीर चिंतन होते रहे हैं क्योंकि ग्रामीण अंचलों के विद्यार्थी या आर्थिक विपिन्नता वाले परिवारों के बच्चे इस सुविधा से वंचित रहते हैं. ये भी है कि लाखों में से कुछ प्रतिशत बच्चे अपेक्षित प्रतियोगी परीक्षाओं में बाजी मारते हैं. शेष हताशा के शिकार होते हैं. आकड़े बताते हैं कि नाउम्मीदी के तथा निराशा के कारण हर साल कुछ विद्यार्थी आत्महत्या भी करते हैं. प्रशासन व राजनीतिज्ञ इसलिए चुप हैं कि इस ‘ट्यूशन लॉबी’ का बड़ा दबाव व आर्थिक प्रभाव इन पर है.

इन संस्थानों की कुछ उच्च माध्यमिक स्कूलों से सेटिंग भी चल रही है कि बच्चे 9वीं कक्षा से ही कोचिंग फीस देकर अपने स्कूलों में ना जाकर यहाँ आते हैं और स्कूलों में हाजिरी लगती रहती है.

माता-पिता, सब, चाहते हैं कि उनके बच्चे डॉक्टर, इंजीनियर, सी.ए., या कलेक्टर बन जाएँ, और इसके लिए वे अपना सर्वस्व दाँव पर लगाने को तैयार रहते हैं. कुछ लोग सौभाग्यशाली अवश्य होते हैं, पर ये उपलब्धि कोचिंग के बिना भी संभव रहती थी. अब समय की सुई पीछे को नहीं घूम सकती है अत: इस सिस्टम का कोई विकल्प आम लोगों के पास नहीं है.

कोटा शहर के कुछ विशिष्ठ खण्डों में बहुमंजिली इमारतें बन गयी हैं जिनमें सैकड़ों की संख्या में हॉस्टल व भोजन-मैस का कारोबार हो रहा है. लोगों ने किराए के लालच से अपने घरों में भी छोटे पार्टीशन देकर कमरे किराए पर दे रखे हैं. हर गली/गेट पर ‘to-let’ का बोर्ड लटका हुआ नजर आता है.

फूहड़ सिनेमा-स्कोप को दोष दें या उम्र व संस्कारों का दोष मान कर चलें, यहाँ गार्जियनशिप के अभाव में कुछ लड़के लड़कियां मनमानी करते हैं. इनके माँ-बाप समझते होंगे कि ‘बच्चे पढ़ रहे होंगे’ पर ये यहाँ पार्कों में या एकांत जगहों में प्रेम-लीला में व्यस्त रहते हैं. यदि ये बच्चे अपनी ज़िंदगी को बैलेन्स करके चलें तो ठीक है. नाबालिग़ बच्चों पर प्रशासन तथा शिक्षण संस्थानों को कोई निगरानी तंत्र की तुरंत व्यवस्था करनी चाहिए, अन्यथा बच्चों के हों या माता-पिता के, सपने यों बर्बाद नहीं होने चाहिए.
***

शुक्रवार, 20 जनवरी 2017

ऐफिशेन्सी बार

"प्रथम सीमेंट वर्कर्स वेज बोर्ड" के तहत आने वाले समस्त कर्मचारियों के लिए ‘नॉमेंक्लेचर’ व तदनुसार ‘पे-स्केल’ श्री जी.एल. गोविल (तब एसीसी के सीनियर एक्जेक्युटिव) की सदारत में तैयार किये गए थे. मंथली-पेड स्टाफ के पे-स्केल में दस साल की सर्विस के बाद E.B. यानि ऐफिशेन्सी बार का प्रावधान रखा गया था. यदि कर्मचारी अपने काम में सक्षम नहीं हो तो इस प्रावधान के तहत उसकी वेतन वृद्धि पर रोक लगाई जा सकती थी. 

नियुक्ति पत्र के अनुसार मुझे हर साल १० रुपयों की मूल वेतन वृद्धि प्राप्त होती रही. जब ९ वर्षों के बाद E.B. पर पहुंचा तो मुझे वार्षिक वेतन वृद्धि नहीं दी गयी. मैं शिकवा-शिकायत लेकर तत्कालीन पर्सनल ऑफिसर श्री वीरेंद्र सिंह जी से मिला तो उन्होंने रूखा सा जवाब दिया कि “E.B. पर कंपनी कोई कारण बताये बिना वेतन वृद्धि रोक सकती है.” उन वर्षों में मुझे अपनी ड्यूटी के सम्बन्ध में या ड्यूटी के अलावा यूनियन आदि की एक्टिविटीज (खुराफातों) के लिए कोई नोट, वार्निंग या सजा नहीं मिली थी इसलिए मैं अपनी ‘ऐफिशेन्सी’ के बारे में ज्यादा सैन्सिटिव हो गया था. मैं असिस्टेंट मैनेजर (प्रशासन में नंबर २) स्व. धोतीवाला जी से मिला. वे बड़े सरल व सुहृद पारसी जेंटलमैन थे. मुझसे उनकी पूरी हमदर्दी थी, पर ऐसा लगा कि तब मैनेजमेंट में उनकी बात को कोई तवज्जो नहीं मिला करती थी. मेरी बात सुन कर वे बोले, “Why don’t you go to the labour court?”

मैंने अपनी शिकायत एक रजिस्टर्ड पोस्ट से लेबर कोर्ट (तब जयपुर में हुआ करता था) को भेज दी. बाद में तारीख पड़ी तो मैं ढूंढते हुए वहाँ पहुंचा. मैनेजमेंट की तरफ से श्री वीरेंद्र सिंह जी के साथ एक बुजुर्ग+खुर्राट एडवोकेट स्व. माथुर (उनका पूरा नाम अब मुझे याद नहीं है) वहाँ पहुचे थे. जज भी कोई बुजुर्ग व्यक्ति थे, जो हाई कोर्ट से रिटायर्ड थे. मेरे साथ कोई बहस नहीं हुई, पर मैनेजमेंट ने अगली पेशी से पहले मुझे एरियर सहित मेरा रोका गया ऐनुअल इन्क्रीमेंट दे दिया. बाद में मुझे मालूम हुआ कि मेरे उस प्रयास से अन्य 9 कर्मचारियों को भी लाभ मिला, जिनमें श्री बालकृष्ण सेनी (तब स्टोनोग्राफर), श्री गोपाल लाल महेश्वरी ड्राफ्ट्समेन, तथा अन्य थे. सबने मुझे धन्यवाद दिया, लेकिन मैनेजमेंट को अवश्य तकलीफ हुयी होगी. उसके तुरंत बाद सन 1970 में मेरा ट्रांसफर शाहाबाद, कर्नाटक को कर दिया गया. ट्रान्सफर में कई कारक थे, परंतु उनमें इस घटना का भी संयोग रहा था.
*** 

मंगलवार, 17 जनवरी 2017

अच्छाई के तार दूर तक जुड़े रहते हैं (संस्मरण )

मेरे एक नजदीकी रिश्तेदार श्री महेश चंदोला सन 1981 में इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई करके नौकरी की तलाश में मेरे पास लाखेरी आये तो स्वाभाविक रूप से सब तरफ नौकरी की संभावनाओं की तलाश की गयी. मेरे एक पूर्व परिचित श्री पुष्पेन्द्र सिंह जी तब सवाईमाधोपुर स्थित जयपुर उद्योग (साहू जैन का सीमेंट कारखाना) की फलौदी माईन्स में मैनेजर थे. उन दिनों मोबाईल/ टेलीफोन की कोई सुविधा नहीं हुआ करती थी अत: मैंने एक पत्र साधारण डाक से इस सम्बन्ध में लिख भेजा. उन्होंने तुरंत प्रत्युत्तर में महेश जी को इंटरव्यू के लिए बुलावा भेज दिया.

श्री पुष्पेन्द्र सिंह जी सन 1964-65 में लाखेरी की हमारी माइन्स में एक जूनियर ऑफिसर (असिस्टेंट क्वारी मैनेजर) हुआ करते थे. मेरी उनसे कोई घनिष्टता नहीं थी. उन दिनों मैं लाखेरी बहुधंधी सहकारी समिति का अवैतनिक महामंत्री था और वे मात्र 10 रुपयों के एक शेयर के खाताधारक थे. परेशानियां बोल कर नहीं आती हैं. एक रात में अचानक श्रीमती सिंह को ब्रेन हैमरेज हो गया. डॉक्टर मुखर्जी और एक दो अन्य ऑफिसर्स के साथ उन्होंने मेरा दरवाजा खटखटाया. अपनी आपदा बताते हुए तुरंत 1000 रुपयों की व्यवस्था करने की बात कही. एक हजार रूपये उन दिनों बड़े मायने रखते थे. जूनियर ऑफिसर्स को मात्र 250 रूपये वेतन मिला करता था. गंभीर परिस्थिति देख कर मैंने रात को ही समिति की तिजोरी खुलवाई, और अपने नाम से 1000 रुपयों का संड्री एडवांस लेकर उनको दिया. वे श्रीमती सिंह को ईलाज के लिए जयपुर लेकर गए. भगवत कृपा से उनको जल्दी स्वास्थ्य लाभ हो गया. कुछ दिनों के बाद लाखेरी लौटकर उन्होंने ये रकम लौटा दी. "A friend in need is a friend indeed" वाली बात उनके जेहन में अवश्य रही होगी इसलिए उन्होंने तुरंत कारवाही की. मैं स्वयं श्री महेश के साथ फलौदी माईन्स पहुंचा। उन्होंने हमें अपने आवास में ले जाकर श्रीमती सिंह के हाथों से बनाया भोजन कराया. उनका ये सत्कार अविस्मरणीय था. बाद में अपनी जीप में बैठा कर सवाईमाधोपुर प्रशासनिक कार्यालय में ले गये और इंटरव्यू के बाद श्री महेश चंदोला को ड्यूटी जॉइन करने को कह दिया.

पुष्पेन्द्र जी खानदानी व्यक्ति हैं. मैंने उनसे परिचय का लाभ अपनी सहकारी समिति के विधान संशोधन के दौरान उनके ससुर श्री राजा निरंजन सिंह जी से लिया था. वे राजस्थान कोऑपरेटिव सोसाइटीज के रजिस्ट्रार हुआ करते थे.

पुष्पेन्द्र सिंह जी बाद के वर्षों में मंगलम सीमेंट में  उच्चाधिकारी हो गए थे.

महेश चंदोला जी ने फैकट्री में घूमकर बिजली की वायरिंग्स और कनेक्शन की दुर्दशा देखी तो वहां जॉइन ना करने का निश्चय किया. सचमुच सब तरह से मिसमैनेजमेंट के चलते जयपुर उद्योग का भट्टा जल्दी बैठ गया. महेश जी को उसी बीच गुजरात सरकार के जॉइंट वेंचर वाले सीमेंट उद्योग नर्मदा सीमेंट में नौकरी मिल गयी थी, और अब बिरला सीमेंट उद्योग की एक यूनिट में चीफ इलैक्ट्रिकल इंजीनियर के बतौर कार्यरत हैं. उनके संघर्ष के दिनों में पुष्पेन्द्रसिंह जी द्वारा दिखाई सह्रदयता को वे भी नहीं भूले हैं.
***