शुक्रवार, 25 अप्रैल 2014

मन की बात

ऐसे अवसर बहुत कम आते हैं जब हम अपने खुद के अन्दर झाँक पाते हैं और अपने अस्तित्व के बारे में सोचते हैं. मैंने पिछले महीने अपने एक लेख ये सत्य है में इसी प्रकार मन के एकाकी भाव को लेखनी द्वारा उद्घाटित किया था. उस लेख में मेरी शारिरिक अस्वस्थता और नैराश्य का आभास भी स्पष्ट था. अत: मेरे अनेक शुभाकाँक्षी मित्रों/पाठकों ने अपनी चिंता जताई थी, शुभकामनाएँ भी भेजी थी.

इस बीच मैं आरोग्य परीक्षण व ईलाज के लिए दिल्ली चला गया था, जहाँ ८ अप्रेल को मेरे बढ़े हुए प्रोस्टेट ग्लैंड (पौरुष ग्रन्थि) का लेजर टैक्नीक से बिना चीरा लगाए आपरेशन किया गया और अब मैं लगभग स्वस्थ हो गया हूँ तथा अपनी नियमित दिनचर्या में आ गया हूँ.

एक समय था लोग आपरेशन के नाम से डरा करते थे क्योंकि उनकी सफलता संदिग्ध रहती थी. कई बीमार लोग बाद में कष्ट पाते हुए काल कवलित हो जाया करते थे. ये संभावनाएं नीमहकीमों द्वारा किये गए ईलाज में ज्यादा होती थी. पर आज देश/दुनिया के अच्छे शहरों में योग्य, अनुभवी सर्जन हैं, मेडीकल साइंस की आधुनिकतम टेक्नोलॉजी व औषधियां उपलब्ध हैं.

मैं अपनी तकलीफ के सिलसिले में जब RG Stone Urology & Laparoscopy Hospital  के चेयरमैन+मैनेजिंग डाइरेक्टर डॉक्टर भीमसेन बंसल, ईस्ट आफ कैलाश, नई दिल्ली में मिला तो उन्होंने बताया कि उन्होंने जयपुर के S.M.S. Medical College से सन १९५८ में डिग्री ली थी और उनका एक ही सपना था कि मरीजों को painless surgery दी जाये. ८१ वर्षीय जवान डॉ. बंसल के तहत आर. जी. स्टोन के नौ अस्पताल दिल्ली, मुम्बई और चेन्नई में चल रहे हैं, जिनमें फुलफ्लैश सुविधाएँ व विशिष्टता प्राप्त डॉक्टर तथा पैरा मेडीकल स्टाफ नियुक्त हैं. जिनकी जितनी भी तारीफ़ की जाये कम होगी. हाँ, क्वॉलिटी की कीमत तो मरीजों को चुकानी ही पड़ती है, जो सामान्य अस्पतालों से बहुत ज्यादा है.
*** 

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (26-04-2014) को ""मन की बात" (चर्चा मंच-1594) (चर्चा मंच-1587) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. हर तरह का समय आता है जीवन में सर ..... शुभकामनायें आपको

    उत्तर देंहटाएं
  3. अपना संस्मरण साझा करने के लिये धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  4. स्‍वस्‍थ होने के लिए बधाई। भावी शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं