मंगलवार, 25 अक्तूबर 2011

मंगल कामना


अमावस की संध्या, दीपों का गजरा,
शरद की सुहानी वायु के झंझे,
बाती पे कैसा ज्योति का पहरा!
अँधेरे उजाले जनम से हैं उलझे,
ऐसे में प्रियवर, कुछ बुलबुले बुन,
सुन्दर सलौने शब्दों का गजरा,
तुम्हारी कुशल की सकल कामनाएं,
तुम्हें भेजता है मेरा ये हियरा.
        ***

3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खुबसूरत, क्या बात है.....
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें एवं बधाई |

    जवाब देंहटाएं
  2. ब्लाग द्वारा अपने ग्यान भन्डार को बाट कर आप अपना शौक पूरा करने के साथ साथ पुण्य भी अर्जित कर रहे है- जितनी भी प्रसशा की जाए कम है.

    जवाब देंहटाएं